Breaking News


 

यूपी में मैरिज सर्टिफिकेट के लिए अब देना होगा दहेज का विवरण

 


न्यूज डेस्क: उत्तर प्रदेश में विवाह प्रमाण पत्र बनवाने के लिए अब दहेज की जानकारी देना अनिवार्य कर दिया गया है। इस नए नियम के तहत विवाह प्रमाण पत्र के लिए आवश्यक दस्तावेजों में शादी का कार्ड, आधार कार्ड, स्कूल की मार्कशीट, दो गवाहों के एफिडेविट के साथ-साथ दहेज का विवरण भी शामिल करना होगा।


इसके संबंध में प्रदेश के सभी संबंधित कार्यालयों में नोटिस भी चस्पा कर दिए गए हैं। अधिकारियों के अनुसार, शासन की ओर से विवाह प्रमाण पत्र के साथ शपथ पत्र अनिवार्य किया गया है।


विवाह प्रमाण पत्र की आवश्यकता निम्नलिखित स्थितियों में होती है: 

1. शादी के बाद पति-पत्नी का जॉइंट खाता खुलवाने के लिए। 

2. बीमा कराने के समय। 

3. किसी देश में स्थायी रूप से रहने के लिए। 

4. अगर शादी के बाद महिला सरनेम नहीं बदलना चाहती है तो सरकारी सुविधाओं के लिए। 

5. लोन लेने के लिए। 

6. कानूनी मामलों में। 


कोई भी वर-वधु शादी के 30 दिन के भीतर विवाह प्रमाण पत्र के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा, 5 साल तक भी आवेदन किया जा सकता है। 5 साल से अधिक समय होने पर जिला रजिस्ट्रार की अनुमति से ही आवेदन किया जा सकता है।